भूमिका / कार्य

भूमिका/कार्य

नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग, उत्तर प्रदेश का प्रमुख कार्य निम्न प्रकार है:-

  • राज्य सरकार के प्रति, आवासीय एवं नगर नियोजन विभाग से संबंधित मामलों में तकनीकि सलाहकार के रूप में काम करना।
  • आवासीय एवं नगर नियोजन विभाग से संबंधित नीतियों का सृजन करने में सरकार की मदद करना।
  • बिल्डिंग उप नियमों, कंपाउंडिंग उप नियमों और जोनिंग विनियमन को तैयार करना और संबंधित अधिनियमों के तहत उनके संशोधन हेतु भी प्रस्ताव रखना, जैसा की सरकार द्वारा निर्देशित किया गया है।
  • विकास प्राधिकरणों, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण, नियंत्रण प्राधिकरण, औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकरण, एक्सप्रेस औद्योगिक विकास प्राधिकरण और यूपी आवास एवं विकास परिषद को आवासीय एवं नगर नियोजन संबंधित मामलों पर तकनीकि सलाह प्रदान करना।
  • डेवेलेप्मेंट एरिया, स्पेशल डेवेलपमेंट एरिया और रेग्युलेटड एरिया के लिए मास्टर प्लान/जोनल डेवेलपमेंट प्लान तैयार करना।
  • संबंधित एजेंसी से निर्धारित शुल्क लेने के बाद मास्टर प्लान/जोनल डेवलेपमेंट प्लान और ले आउट प्लान हेतु भौतिक सर्वेक्षण के आधार पर बेस मैप को तैयार करना।
  • एनसीआर के अंतर्गत यूपी उप-क्षेत्र के लिए उप-क्षेत्रीय प्लान तैयार करना और एनसीआर क्षेत्र की योजनाओं को कार्यन्वयन/अनुश्रवण करने में सहायता प्रदान करना।
  • प्रोजेक्ट फॉर्म्यूलेशन मूल्यांकन को पूरा करना और परियोजनाओं के आकरलन की स्वीकृति कराना और आईडीएसएमटी हेतु केंद्रीय प्रायोजित योजनाओं के अनुश्रवण का विस्तार करना।
  • योजनाओं के कार्यन्वयन में नगरीय क्षेत्रीय निकायों को तकनीकि दिशा-निर्देश प्रदान करना।
  • डेवेलपमेंट एरिया/स्पेशल डेवेलपमेंट एरिया और रेग्युलेटेड एरिया के घोषणा/संशोधन हेतु प्रस्ताव करना।
  • ट्रैफिक और ट्रांसपोर्ट प्रणाली को बेहतर और नियोजना हेतु विकास प्राधिकरणों, नगरीय क्षेत्रीय निकायों को तकनीकि सलाह प्रदान करना।