भारत में शहरीकरण

भारत में शहरीकरण का अस्तित्व मुख्य रूप से आजादी के बाद आया था। देश में मिश्रित अर्थव्यवस्था प्रणाली होने के कारण ही यहां निजी सेक्टर का विकास संभव हो पाया। 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या 1,241,491,960 है, और जीडीपी 6.8% है। भारत में शहरीकरण का विकास काफी तेजी से हो रहा है। 1901 की जनगणना के अनुसार, भारत के शहरों में रहने वाली आबादी मात्र 11.4% थी, जो 2001 में बढ़कर 28.53% हो गया और 2011 जनगणना के अनुसार यह बढ़कर 30% से अधिक (31.16%) हो गया है। 2007 की यूएन स्टेट के एक सर्वेक्षण के मुताबिक, 2030 तक, भारत की 40.76% जनसंख्या नगरीय क्षेत्रों में पलायन कर लेगी।

urbanization-in-india